5500 रुपए माह में जान की की चिंता किए बिना काम कर रहे है सिक्योरिटी मजदूर

0
49

अमदाबाद शहर में अमदाबाद प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड के तौर पर काम कर रहे और लोगो को समझना और सहयोग करने के लिए खटे 1300 से ज्यादा प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड मात्र 5500 जितने पगार में काम कर रहे है और अपने जीवन को जोखिम में डाल रहे है।
वे वहीं प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड है जो कोरोना प्रभावित विस्तार में ज्यादा काम कर रहे है और अपने जान और परिवार की चिंता नहीं कर रहे है।
पूर्व सैनिक सियाराम शर्मा के मुताबिक इनके आगे के कॉन्ट्रैक्टर सरकार या कंपनी से 11000-13000 हजार रुपय प्रति सिक्योरिटी गार्ड का टेंडर पास कराकर सिक्योरिटी गार्ड को मात्र 5500 आठ घंटो का देते है।

इस तरह के महामारी में ग्राउंड पर काम करने वाले ज्यादातर सिक्योरटी गार्ड हमेशा कोरोना प्रभावित क्षेत्र में काम कर रहे है और कोई भी प्रकार के सावधानी के बिना। एक मास्क ही उनका सुरक्षा कवच बना हुआ है और सहयोग के लिए कोई आगे आने तयार नहीं है।

क्या इन मजदूरों की पगार में कोई बढ़ोतरी होंगी?
या कोई अलग से ज्यादा पगार देकर या सहयोग देकर इन मजदूरों को सहयोग किया जाएगा?

पनाह टाइम्स गुजारिश करता है कि इन सिक्योरटी गार्ड मजदूरों की सेहत का ख्याल कर के इन सिक्योरटी गार्ड के एजेंसी को अलग से व्यवस्था की जाए ये सभी के हित में है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here